Demand Draft क्या होता हैं - What is demand draft ?

Demand Draft क्या होता हैं - What is demand draft ?


आपने बैंक में या कहीं पर भी पेमेंट ट्रांसफर केे ऑप्शन के रूप में Demand draft का नाम जरूर सुना होगा | क्या आप जानते हैं की demand draft क्या होता है और इसे कैसे बनाते हैं अगर नही तो इस पोस्ट की मदद से आप आसानी से समझ जायेंगे demand draft केे बारे में

आज केे समय में एक दूसरे को पेमेंट करना बहुत ही आसान हो गया हैं लेकिन पहले केे समय में किसी को पेमेंट करना बहुत ही मुश्किल का काम था और साथ ही बहुत ही कम ऑप्शन उपलब्ध थे जिससे लोग एक स्थान से दूसरे स्थान पर पैसे भेज पाते थे

आज केे डिजिटल युग में किसी को भी पेमेंट करना बहुत ही आसान हो गया हैं,अब fund ट्रांसफर करना बहुत ही सुविधा जनक और आसान हो गया है

अब कई सारे पॉपुलर तरीके है जिससे बैंक से बैंक पैसे आसानी से ट्रांसफर कर सकते हैं जैसे - IMPS,RTGS  ,NEFT,UPI केे द्वारा बहुत ही आसानी से अपने पैसे को आप तुरंत ट्रांसफर कर सकते हैं इसके अलावा आप net banking और mobile banking केे जरिये भी पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं

इन काम को लेकर आपको बैंक जाने की कोई आवश्यकता नहीं है इसी को digital banking या e banking भी कहा जाता है


demand draft kya hota hai

Contents

1. Demand draft क्या होता हैं ? ( What is Demand draft )

2. DD का Full Form

3. Demand draft कैसे बनता हैं ?

4. Demand draft कैसे काम करता है 

5. Demand draft का उपयोग कौन करते है

6. Demand draft और Cheque में क्या अंतर हैं


Demand draft क्या होता हैं ? ( What is demand draft )

Demand draft एक तरह का negotiable instrument है इसे short form में DD भी कहते हैं जब ऑनलाइन payment की बात आती हैं तब cheque या RTGS,NEFT आदि चीज़ें दिमाग में आती हे लेकिन इसके अलावा भी एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा सुरक्षित भुगतान किया जा सकता हैं जिसे हम demand draft कहते हैं

किसी भी खाते में पैसे transfer करने का सबसे पुराना और सुरक्षित माध्यम demand draft है 

 आज के समय में ऑनलाइन payment करने केे लिए RTGS,NEFT,UPI और mobile banking का ज्यादा तर लोग उपयोग करने लगे हैं  मगर फिर भी ऐसी बहुत सारी सरकारी संस्थान है जहां पर demand draft का ही प्रयोग किया जाता हैं


यह भी पढ़े

   • BFF Full Form | What is Meaning of BFF in hindi ?

Demand draft से पैसे भेजने में कोई fraud नही होता हैं इसलिए सभी सरकारी संस्थान और कार्यालय demand draft का ही प्रयोग करते है

Demand draft एक कागज का टुकड़ा होता है इसे बनवाने केे लिए  Bank अकाउंट की आवश्यकता होती है अगर आपके पास बैंक अकाउंट नहीं है तो भी आप DD बनवा सकते हैं  डिमांड ड्राफ्ट कैशलेस ट्रांजेक्शन का एक माध्यम है इसे किसी भी बैंक से बनवाया जा सकता है

Demand draft जिस व्यक्ति के नाम पर बनाया जाता है  उसी के अकाउंट में ट्रांसफर भी होता है  साथ ही डिमांड  ड्राफ्ट में कोई हिडेन चार्जेस नहीं होते हैं  हालांकि हर बैंक के DD के चार्जेस अलग-अलग होते हैं  यह बैंक और DD केे  अमाउंट के आधार पर निर्भर करता है देश के अधिकतर बैंक ₹10000 पर  25 से ₹50 रूपए चार्जेस लेते हैं  किसी भी डिमांड ड्राफ्ट की वैधता चेक की तरह ही 3 महीने होती है अगर लाभार्थी 3 महीने के बाद डिमांड ड्राफ्ट को जमा करता है तो वह मान्य नहीं होगा


DD का Full Form

       DD - Demand Draft 


Demand draft कैसे बनता हैं ?

आप जान गये होंगे की demand draft क्या होता है तो चलिए अब जानते हैं की demand draft कैसे बनाते हैं

Demand draft एक cheque की तरह कागज का टुकड़ा है इसे बनाने केे लिए बैंक में जाकर एक फॉर्म लेना होता है जिसे हम demand draft form कहते हैं फॉर्म को भरकर Bank में जमा करना होता है उसके कुछ देर बाद उस draft का print करके दे देता है

Demand draft form में आपको details भरना होता है जिस व्यक्ति या संस्था के नाम पर भुगतान करना चाहते हैं उसका नाम तथा कितने रूपए का भुगतान करना है ये लिखना होता है जिस भी amount का demand draft बनवाते है उतने पैसे आपके अकाउंट में होना जरूरी है तथा जितने रूपए का आपका demand draft बनता है उतना पैसा और बैंक अपने चार्ज जोड़ कर आपके बैंक अकाउंट से पैसे काट लेता है और DD बनाकर आपको दे देता है

अब आप demand draft का कही भी यूज कर सकते हैं यदि आप 50 हजार से ज्यादा रूपए का demand draft बनवाते हैं तो आपको अपना pan card दिखाना पड़ता हैं और उसकी एक कॉपी जमा करनी होती है


और पढ़े 

     • WiFi क्या होता हैं What is Full Form of WiFi ?

Demand draft कैसे काम करता है 

आपके पास बैंक खाता हैं या नहीं हैं इन दोनों स्थितियों में आप demand draft बनवा सकते हैं demand draft की राशि को bank मे नकद या अपने खाते में जमा करना होता है इसमें बैंक खाताधारक का नाम होता है जिसे धनराशि जमा करनी हैं

Demand draft का उपयोग कौन करते है

demand draft का उपयोग वह लोग करते है जो कॉलेज की फीस,वेतन सरकार को भुगतान करने केे लिए किसी ऐसे व्यक्ति जिस पर भरोसा ना हो इन सभी जगह demand draft का अधिकतर उपयोग होता है इसमें fraud होने केे चांस कम होते हैं इसलिए लोग demand draft का ज्यादा उपयोग करते हैं


और पढ़े

    • Meme कैसे बनाते है? Funny Memes in hindi

Demand draft और Cheque में क्या अंतर हैं

डिमांड ड्राफ्ट का काम भले ही चेक कैसा हो लेकिन यह चेक से कई मामलों में अलग होता है  सबसे बड़ा अंतर यह है कि डिमांड ड्राफ्ट केवल अकाउंट में ही pay होता है  जिसके नाम पर यह आर्डर है  वह अपने अकाउंट से इन कैश कर सकता है

अकाउंट में पर्याप्त राशि होने के मामले में चेक बाउंस हो जाता है  लेकिन डिमांड ड्राफ्ट कभी बाउंस नहीं होता हैं  क्योंकि इसके लिए डिमांड ड्राफ्ट बनवाने वाला व्यक्ति पहले ही pay कर चुका होता है 

चेक की सुविधा संबंधित बैंक में केवल अकाउंट रखने वाले व्यक्ति को ही होती है  लेकिन डिमांड ड्राफ्ट बनवाने के लिए बैंक में अकाउंट होना जरूरी नहीं है 

अगर कभी चेक खो जाता है और वह Account pay नही है  तो उसका गलत इस्तेमाल होने के चांस बहुत हैं  कोई भी व्यक्ति buyes बन कर उसे इन केस करा सकता है  लेकिन डिमांड ड्राफ्ट के साथ ऐसा नहीं है  क्योंकि इसके द्वारा केवल अकाउंट में ही पेमेंट होता है  इसलिए इसके खो जाने पर इसे इन केस कि नहीं कराया जाता है  तथा  खो जाने की स्थिति में इसे कैंसिल कराया जा सकता हैं

डिमांड ड्राफ्ट को रूपए के अलावा जरूरत पड़ने पर दुनिया की करेंसी में बनाया जा सकता है


FAQs

Demand draft की Validity कितनी होती हैं ?

रिजर्व बैंक ने हाल ही में एक नया नियम प्रस्तावित किया हैं जिसके तहत demand draft पर buyer का नाम print करना अनिवार्य हो गया हैं यह नियम 15 सितंबर 2018 से प्रस्तावित हुआ है इसका मकसद money-laundering की कोशिश को असंभव बनाना है

किसी भी demand draft की वैधता cheque की तरह 3 महीने की होती हैं  अगर लाभार्थी डिमांड draft को 3 महीने के बाद जमा करता है तो वह मान्य नहीं होता है


     • New Punjabi Songs download कैसे करें - 2021 ( 15 Best Sites )

• Demand draft को cancel कैसे कराए

अगर आप demand draft को कैंसिल करना चाहते हैं तो आपको ओरिजिनल demand draft केे साथ संबंधित बैंक में जाकर एक निवेदन करना होगा

यदि आपने कैश पैसे देकर demand draft बनवाया होगा तो बैंक अपना चार्ज काट कर बाकि पैसे आपको वापिस देकर आपके हस्ताक्षर ले लेता हैं

यदि आपने demand draft Cheque के जरिए बनाया होगा तो चार्ज काट कर बाकि पैसे आपका खाते में डाल दिए जाएगे


आज आपने क्या सिखा

दोस्तों आशा करता हूँ की अब आपको समझ में आ गया होगा कि डिमांड ड्राफ्ट क्या होता है और इसे कैसे बनाते हैं ( What is demand draft )


अगर आपको हमारी पोस्ट Demand draft क्या होता हैं पसंद आयी हो तो ,अपने दोस्तों केे साथ social media पर जरुर शेयर करे और अगर कोई सवाल हो तो कमेंट में लिख कर जरूर बताये


Post a Comment

Previous Post Next Post